“प्रेम ही चरम शक्ति हैं”

हमें अपने जीवन में प्रेम की चरम शक्ति देखने के लिये हमको वैसे प्रेम करना होगा जैसा हमने पहले कभी नहीं किया होगा लेकिन

जितना भी प्रेम किया हो हम उस भावना को दोगुना करें,दस गुना करें, सौ गुना कर दें हज़ार गुना लाख गुना करदे क्यों कि हमारे अन्दर प्रेम को महसूस करने की अपार क्षमता है, हम जितना ज़्यादा प्रेम महसूस कर सकते हैं उसकी कोई ऊपरी सीमा या बंधन नहीं है और वह सब हमारे भीतर ही है

हमारा निर्माण प्रेम से हुआ है यह हमारे जीवन का और प्रकृति मूल तत्व है हम अपनी कल्पना से बहुत ज़्यादा प्रेम कर सकते है जो हमने पहले कभी नहीं किया होगा, यही प्रेम को पाने की या समझने की चरम शक्ति है।

To see the extreme power of love in our life, we have to love like we have never done before.

Whatever you have loved, we double that feeling, multiply ten times, make it a hundred times, a thousand times a million times, because we have immense ability to feel love, the higher the limit of love we can feel. Or there is no bond and that is all within us

We are created with love, it is the basic element of our life and we can love our imagination more than we would have ever done before, this is the extreme power to find or understand love.

(C)Mithlesh Singhal

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s