“आनन्द”

यदि हम अपने जीवन से प्रेम करने लगते हैं तो हमारी हर सीमा ग़ायब हो जाती है तो हमारे अन्दर आनन्द और सम्बंधों से भरीं मौजूद ख़ुशी की सारी सीमाएँ टूट जाती है कहीं कोई प्रतिरोध नहीं रह जाता है हम जिससे प्रेम करते हैं वह लगभग तत्काल ही प्रकट हो जाता हैं जब लोगों को हमारी मौजूदगी का एहसास होने लगता हैं, तो हमारे जीवन में अवसरों की बरसात होने लगती है, हम अपने आप में इतना बेहतर महसूस करने लगते हैं कि जितना कभी सोचा नहीं होता है हम बेहद हल्कापन महसूस करने लगते हैं मानो आकाश मैं उड़ रहे हो और हमारा आनन्द हमेशा हमारे साथ ही रहता है ।

If we start loving our life, then every boundary of ours disappears, then all the boundaries of happiness present in us are filled with joy and relationships, there is no resistance left. When people start to realize our presence, it starts raining opportunities in our lives, we start feeling so much better in ourselves Not that much is never thought we would start feeling extremely lightness as if the sky I fly and joy always be with us.

(क) मिथलेशसिगल

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s