“विश्वास”

जो विश्वास हमें दिखाई नहीं देता उसके साथ हम अनुग्रह या समर्पण कैसे कर सकते है ? लेकिन

जो विश्वास घास के तिनके से भी पतला है और बरगद के पेड़ की जड़ों से भी ज़्यादा

मज़बूत है उसी विश्वास के कारण न तो कोई अपेक्षा रखते हैं ,और न ही हम कुछ माँगते हैं

अगर कोई गहरा संकट हमारे ऊपर आ भी जाए तो भी यह विश्वास हमें अडिग अंचल व

मज़बूत रखता है,

How can we surrender grace with faith that we do not see?

Faith is thinner than the straw of the grass and more than the roots of the banyan tree

Due to the same faith, neither expect nor demand anything.

Even if a deep crisis comes upon us, this belief will still haunt us.

Keeps strong,

(क) मिथलेशसिगल

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s