“खिलखिलाना”

कभी देखो ज़रा सा खिलखिला कर , कभी ग़म को ज़रा सा मुँह चिढ़ाओ ,

कभी तन्हाई को तन्हा बनाओ ,कभी ख़ामोशीऔ की धुन सुनो

Sometimes look like a little blush, sometimes tease a little bit of sorrow,

Sometimes make loneliness lonely, sometimes listen to the tune of silence

(C) Mithlesh Singhal